Age Power

‘बुजुर्ग’ हमारे समाज की शान एवं भारत की पहचान हैं

Senior citizens our pride

समाज में बुजुर्गों का स्थान हमेशा से ही सम्मानित रहा है। घर-परिवार से लेकर चैक-चैराहे तक प्रतिदिन यह दृष्य में हमें अनुभव आता है। बस या रेल के डब्बे में कितनी भी भीड़ क्यों न हों किसी बुजुर्ग के आते ही कोई न कोई नौजवान यह कहते हुए कि ‘बाबा आप बैठ जाइए’ अपनी सीट …

‘बुजुर्ग’ हमारे समाज की शान एवं भारत की पहचान हैं Read More »

6+ nutrient groups make a balanced diet to have a healthy life for Senior Citizens

6 nutrient groups make a balanced diet to have a healthy life for Senior Citizens

For elderly people, it is extremely crucial to have a healthy as well as balanced diet. Various organs of the body are over-used and some of these start degenerating as age progresses. Hence, a balanced diet, to some extent, helps in preventing or slowing down process of erosion and maintaining a healthy life. At the …

6+ nutrient groups make a balanced diet to have a healthy life for Senior Citizens Read More »

उम्र से ही नहीं अनुभवों से भी मालामाल होते हैं बुजुर्ग

उम्र से ही नहीं अनुभवों से भी मालामाल होते हैं बुजुर्ग

अक्सर हाथ पकड़कर सहारा देने वाली ढलती उम्र में बच्चे कभी अंगुली पकड़कर चलना सिखाने वाले मां-बाप को ही बोझ समझने लगते है। जबकि वास्तविकता यह है कि भले शरीर से मां-बाप बूढ़े हो चुके हो किन्तु अनुभवों की सीख में तो मां-बाप साठ के पार भी मालामाल होते हैं। दांत में दर्द होने पर …

उम्र से ही नहीं अनुभवों से भी मालामाल होते हैं बुजुर्ग Read More »

साठ की आयु…गरिमामय आयु

साठ की आयु...गरिमामय आयु

समय के अविरल प्रवाह में मनुष्य के सौ वर्ष जीने की कामना हमारे कृती पूर्वपुरुषों ने की है…सौ शरद, सौ वर्ष तक स्वस्थ रहकर अपनी आँखों से देखते,बोलते,अदीन होकर जीने की कामना| वेद कहते हैं… पश्येम शरद: शतम्जीवेम शरदः शतम्प्रब्रवाम: शरद: शतम्अदीना: स्याम शरद: शतम् शुक्ल यजुर्वेद 36/24 सहस्र चन्द्रदर्शन की शुभेच्छा भी हमारी परंपरा …

साठ की आयु…गरिमामय आयु Read More »

दूसरी पारी के रंग आनंद, अनुभव, और ज्ञान के संग

दूसरी पारी के रंग आनंद, अनुभव, और ज्ञान के संग

(बुजुर्ग उम्र की पहचान नहीं बल्कि आनंद, अनुभव और ज्ञान का स्तंभ है) भारत में प्रत्येक व्यक्ति के काम करने की सीमा उसकी ढलती उम्र के साथ जुडी है, ज्यादातर लोग 60 वर्ष में अपने कार्यस्थल से सेवामुक्त हो जाते है | भारत में केंद्र, राज्य, सरकारी, गैर सरकारी और निजी क्षेत्रों में और विभिन्न …

दूसरी पारी के रंग आनंद, अनुभव, और ज्ञान के संग Read More »